भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चूहों की चतुराई / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 देखे जब दो दर्जन चूहे,
कंडेक्टर घबराया|
सारे थे बस में सवार,
पर टिकिट एक कटवाया|

 बोला दो दर्जन हो तुम सब,
सबको टिकिट लगेगा|
एक टिकिट में सब जा पायें,
यह तो नहीं चलेगा|

 कंडेक्टर की बातें सुनकर,
चूहे आगे आये|
दे दो अलग अलग टिकटें,कह,
आगे नोट बढ़ाये|

 पर चूहों ने शर्त रखी,हम,
अलग अलग बैठेंगे,
चौबीस टिकिट यदि लेंगे तो,
उतनी सीटें लेंगे|

 चूहे की फरमाइश सुनकर,
कंडेक्टर चकराया|
एक टिकिट में ही उन सबको,
मंजिल तक पहुंचाया