भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चेतन आदमी / अजय कुमार सोनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गरम्यां में चालती
आ ताती लू
म्हानै आज
इत्ती खारी लागी
जाणै काढ ई लेसी
म्हारो राम
कर देसी
म्हानै अचेत।

म्हानै पण आ
अचेत कियां कर सकै
कदै ई सुण्यो है थे
एक सचेत आदमी नै
होंवतो अचेतन
म्है तो सावचेत हूं
बावळी है लूं !