भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

चेतावनी / शब्द प्रकाश / धरनीदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अधो-मुख वास दस मास अवकाश नहि, जठरयाँ अनल की आँचवारी।
बालपन बीतिगो तरुनपन तेजमो, परे विष स्वाद धनधाम नारी॥
वृद्धपन आइगो चौंकि चित चेतभां, बिना जगदीश यमत्रास भारी।
बूझि मन देखु तोहि सूझि कछु पर्त नहि, धरनि तजि चलैगो हाथ झारी॥8॥