भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चोथतीँ चकोरैँ चँहु औरैँ जानि चँदमुखी / रामजी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चोथतीँ चकोरैँ चँहु औरैँ जानि चँदमुखी ,
रही बचि डरन दसन दुति दँपा के ।
लीलि जाते बर ही बिलोकि बेनी वनिता की ,
गुही जो न होती ये कुसुम सर कँपा के ।
रामजी सुकवि ढिग भौँहैँ न कमान होतीँ ,
करि कैसे छाँड़ते अधर बिंब झँपा के ।
दाख कैसे झोर झलकत जोति जोबन के ,
भौँर चाहि जाते जो न होत रँग चँपा के ।


रामजी का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल मेहरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।