भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चौक के ऊपर वाला कमरा / स्तेफान स्पेन्डर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लगता था अनन्त प्रकाश इस खिड़की का
रहते थे जब तुम यहाँ, मेरे लिए
छिपती थी पेड़ों के ऊपर वह पत्तों के झुरमुट से
मेरे भरोसे की तरह ।

अस्त हो गया है प्रकाश वह और हो चुके हो तुम भी कब के
ओझल एक खड्ग के उजले प्रायद्वीपों में
चिथड़े-चिथड़े हो चुकी है शान्ति समूचे यूरोप में
जो बहती थी हमारे आर-पार कभी ।

चढ़ता हूँ अकेला अब मैं सीढ़ियाँ इस ऊँचे कमरे की
अन्धेरे चौक के ऊपर
जहाँ पत्थर और जड़ों के बीच है कोई अन्य
अक्षत प्रेमीजन

अँग्रेज़ी से अनुवाद : रमेशचन्द्र शाह