भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चौपर है राजन के लानैं / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चौपर है राजन के लानैं
जिनै जगीरी खानैं।
बड़े भोर सें बिछो गलीचा
ठान ओई की ठानैं।
निस दिन तार लगी चौपर की,
मरे जात भैरानें।
कात ईसुरी जुरकै बैठत
लबरा केऊ सयाने।