भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चौफेर हुया बदळाव देखल्यौ / राजेन्द्र शर्मा 'मुसाफिर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चौफेर हुया बदळाव देखल्यौ
मिनखां माच्यौ हिड़काव देखल्यौ।

हुयगी है दुरगत राजनीति री
आंरा सांग सुभट-साव देखल्यौ।

पद-कुरसी खातर है तड़ातड़ी
सगळां रै लागी लाय देखल्यौ।

जनसेवा री बातां गई करौ
दिल्ली रौ चढर्यौ चाव देखल्यौ।

मिनखाचारौ साव भिसळग्यौ
राकस जैड़ा बरताव देखल्यौ।