भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चौरासी वयमा / बद्रीप्रसाद बढू

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


चौरासी वयमा पवित्र धरती चोखो सफा सभ्य छ
देखी चन्द्र ह्जार मास महिमा यो देह नै दिव्य छ
माया स्नेह लुकी लुकी हृदयमा आवास नै भव्य छ
यस्तो एक निमेश मात्र नभई यो जीवनै पूज्य छ //१।।