भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छंद 26 / शृंगारलतिकासौरभ / द्विज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किरीट सवैया
(व्याज से वसंत-श्री का वर्णन)

नागर से हैं खरे तरु कोऊ, लिऐँ कर-पल्लव मैं फल-फूलन।
पाँवड़े साजि रहे हैं कोऊ, कोऊ बीथिन बीच पराग-दुकूलन॥
फूल झरैं ‘द्विजदेव’ कोऊ, पुर-कानन माँहिँ कलिंदजा-कूलन।
आगम मैं ऋतुराज के आज, सबै बिधि खोए सबै निज सूलन॥

भावार्थ: आज ऋतुराज के वन में पधारने से सब सांसारिक चिंता और क्लेश को खोकर-भूलकर नगरवासियों की नाईं (तरह) कोई वृक्ष अपने पल्लवरूपी हाथों में फल-फूल लिये उपहार को खड़े हैं; कोई वन-वीथियों में पुष्प-परागरूपी वस्त्र को विकीर्ण कर मानो पाँवड़े बिछाते हैं और कोई यमुना-तीर पर वनरूपी नगर में फूल गिराकर पुष्प-वर्षा कर रहे हैं।