भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छटपटाहट / साधना सिन्हा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


धूप में छटपटाते
जन्तु को
नहीं बचाया मैंने
सोचा
मुक्त हो जाये

चौसठ करोड़ योनियों
में से
एक तो
कम हो जाये

पर छटपटाहट की लहर
देह में सिहर गई

छटपटाऊँ
उसी तरह मैं
निरपेक्ष
देखें सब

जीवन से
मुक्त होने का
आह्लाद क्या
मुझमें
होगा तब ?

जन्म देना
करना मुक्त
उसका काम

असहाय होना
तड़फड़ाना
कर्मों का
अपने जन्म-जीवन का दण्ड ।