भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छबेली है सूरत हमारे सजन की / क़ुली 'क़ुतुब' शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छबेली है सूरत हमारे सजन की
क्या पूतली उस कहूँ अप नयन की

तेरा हुस्न फुल बन थे नाजुक वीसे तो
ने वीसे तेरे अंगे छब कोई बन की

नयन तेरे दो फूल नरगिस थे ज़ेबा
नज़ाकत है तुज मुख में रंगीं चमन की

तेरे जुल्फ फंदाँ में दिल आशिकाँ के
रहे हैं सो आशिक़ हो पियो की नयन की