भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छमाछम नाच रई गंगा हिलौरें ले रई जमुना / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छमाछम नाच रई गंगा हिलौरें ले रई जमुना।
बन्नी की माथे की बेंदी अबै बम्बई से आई है।
खुशी सें पैन लों बन्नी तुम्हें ससुरा कें जानें हैं। छमाछम...
बन्नी के कानों के झूमर अबै दिल्ली सें आये हैं।
खुशी से पैन लों बन्नी तुम्हें ससुरा कें जानें हैं। छमाछम...
बन्नी के गले का हरवा अबै मदरास से आयो है।
खुशी से पैन लों बन्नी तुम्हें ससुरा कें जानें हैं। छमाछम...
बन्नी के पैरों की पायल अबै कलकत्ता से आईं हैं।
खुशी से पैन लो बन्नी तुम्हें ससुरा कें जानें हैं। छमाछम...