भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छाएछ वसन्त / वसन्त चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छाएछ वसन्त मेरो तन मन भरी त्यसै त्यसै
भुमरी झैँ बेर्छ मलाई तिम्रो प्रेमले

सुस्तरी सुस्तरी आज फेरी महकिन थालेछु म
गाउँदा गाउँदै नाची फेरी बहकिन थालेछु म
झुम झुम झुम्न थालेछु म तिम्रो प्रेमले

कस्तो वर्षा पानी छैन त्यसै भिज्न थालेछु म
न गरम छ कहीँ मौसम नरम पग्लिन पो थालेछु म
कल कल बग्न थालेछु म तिम्रो प्रेमले