भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छाते / विनोद स्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वैसे तो
अपनी मर्ज़ी के
मालिक हैं ये
पर हमारी नज़रों में
आकाश में उड़ते
ये बादल
छाते हैं हमारे ।