भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छान डाले उसने परदेसी गगन के रास्ते / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छान डाले उसने परदेसी गगन के रास्ते ।
तय न कर पाया मगर अपने वतन के रास्ते ।

आओ बैठें मिल के सोचें कैसे पिघलेगी ये बर्फ़,
मुद्दतों से बन्द हैं आवागमन के रास्ते ।

हौसला हूँ मंज़िलों से पहले की मंज़िल हूँ मैं,
ख़त्म हो जाते हैं मुझ पर सब थकन के रास्ते ।

लग रहा है आज फिर सय्याद[1] आएगा कोई,
फिर सजे हैं खैरमकदम[2] को चमन के रास्ते ।

फ़ासले भी चलते-चलते आख़िरश थक ही गए,
आ के यकजा[3] हो गए गंग-ओ-जमन के रास्ते ।

जिस तरफ़ मुड़ने से भी परहेज़ करते थे ’नदीम’
उस तरफ़ ही जा रहे हैं इल्म-ओ-फ़न[4] के रास्ते ।

शब्दार्थ
  1. बहेलिया
  2. स्वागत
  3. एक हो जाना
  4. शिक्षा, ज्ञान और कला