भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छाया कहाँ गई / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धूप सरकने लगी
अरे, अब अपनी छाया कहाँ गई?

पिछलग्गू की तरह सुबह से
अपने पीछ-पीछे थी।
सिर के ऊपर सूरज था
और वह पाँवों के नीचे थी।
शाम पसरने लगी,
अरे, अब अपनी छाया कहाँ गई?

कैसे-कैसे रूप बनाकर
रही लुभाती रस्ते में,
लंबी, नाटी, आड़ी-टेढ़ी
घट-बढ़ जाती रस्ते में,
रात उतरने लगी
अरे, अब अपनी छाया कहाँ गई?