भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

छावते कुटीर कहूँ रम्य जमुना कै तीर / जगन्नाथदास ’रत्नाकर’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छावते कुटीर कहूँ रम्य यमुना के तीर
गौंन रौन -रेती सौं कदापि करते नहीं ।
कहैं रत्नाकर बिहाय प्रेम गाथा गूढ
स्रौन रसना में रस और भरते नहीं ।
गोपी ग्वाल बालनि के उमड़त आँसू देखि
लेखि प्रलयागम हूँ नैकु डरते नहीं ।
होतौ चित चाव जो न रावरे चितावन क
तज ब्रज-गाँव इतै पाँव धरते नहीं ।