भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छितिज केॅ निहारोॅ / रूप रूप प्रतिरूप / सुमन सूरो

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खुललोॅ झड़ोखा सें छितिज केॅ निहारोॅ!
बान्हलोॅ यै मुट्ठी केॅ छाती पर मत बान्होॅ,
दोसरा केॅ अंक भरोॅ, बाँह तेॅ पसारोॅ?

कमरा के गुमसुमपन, ऐङना के घेरा;
अदमरूवोॅ आँखी में चिन्ता के डेरा
जिनगी के साथी छै भूख-प्यास-लाचारी;
कुछ देरी यै सब केॅ दोसरा लेॅ बारोॅ!

फूलोॅ के बगिया में कुहरा जे छैलोॅ छै,
सूर्जोॅ के किरणोॅ सें ऊ सब घबरैलोॅ छै।
हँसनी छितरैतै सब फूल-कली-डारी पर
किरणोॅ के ध्यान धरोॅ, धुंध केॅ बिसारोॅ!

खुललोॅ झड़ोखा सें छितिज केॅ निहारोॅ!