भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छुट्टियों में / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छुट्टियों में बोलो क्या काम करोगे
काम करोगे या आराम करोगे ?

गाँव से सटा पोखर
सूखने लगा है,
रोज़ एक ही सवाल
पूछने लगा है,
पानी का कब इंतज़ाम करोगे ?

जामुन के पेड़ों के
मिले हैं संदेशे,
उनके भी कटने के
हैं अब अंदेशे
सोचो, कैसे ये नुक्सान भरोगे ?
छुट्टियों में बोलो क्या काम करोगे ?