भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छुट्टी हो ! / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छुट्टी हो छह दिन की,
एक दिन पढ़ाई ।
आए फिर बड़ा मज़ा भाई ।

टिचर के आते ही,
टन-टन घंटी बजे ।
काम करो, न करो,
अपनी मरज़ी चले ।
देनी न पड़े रोज़ झूठी सफ़ाई ।

इम्तहान में टूटे,
नियम फ़ेल करने का ।
भूलों के सौ नम्बर,
ज़ीरो हो रटने का
नक़ल पर इनाम मिले, अकल पर पिटाई,
आए फिर बड़ा मज़ा भाई ।