भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छुन छुन चिरैया उड़ चली / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छुन छुन चिरैया उड़ चली
मोरी रून झुन चिरैया उड़ चली। मोरे लाल
मोरी चाँवरन भरी चंगेल
चिरैया मोरी उड़ चली मोरे लाल।
आजुल ने उनकी दई है निकार
आजी रानी ने लई है दुबकाय
चिरैया मोरी उड़ चली। छुन छुन...
उनके आजुल कौ बड़ौ परिवार
चिरैया मोरी छोड़ चली मोरे लाल।
बाबुल ने उनकी दई है निकार
मैया रानी ने लई है दुबकाय
चिरैया मोरी उड़ चली। मोरी चाँवर भरी...
उनके बाबुल कौ बड़ो परिवार, चिरैया मोरी
चिरैया मोरी छोड़ चली मोरे लाल।
मोरी चाँवरन भरी चंगेल
चिरैया मोरी उड़ चली मोरे लाल