भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छूट चुकी आदत / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आलस्य और ऊब भरे ये दिन
कहीं नहीं पहुँचते
सिवाय एक उदास शाम
और अंधेरी रात के।
दिनों की उबासी
और रात की उदासी का रिश्ता
मजबूत ना सही
पर पुराना जरूर है।
रात और दिन को
साथ-साथ चलते
बीती हैं सदियाँ
और सदियों का हिसाब
बाकी है अब भी।
इन दिनों बन्द हैं
वे सारे दरवाजे
जिनसे झाँकते उजाले
आ बैठते थे भीतर।
और चलती थी बहस
अंधेरों से आगे
उजले शहरों के
लम्बे रास्तों की।
सफर की मुश्किलों के अफसाने
चाव से सुनाए जाते थे।
उन दरवाजों पर
अब भी नहीं हैं ताले
पर
उन्हें खुलता देखने की
एक आदत थी
जो छूट चुकी है।