भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छेर बुं/धदसि मां, नचंदसि मां / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छेर बुं/धदसि मां, नचंदसि मां
दर त दूल्ह लाल जे

1.
ओ सोनो हिंदोरो मुंहिंजे लाल जो
झूले लाल जो, उॾेरे लाल जो, जोतियुनि वारे जो
ॾिसी ठरंदसि मां हिंदोरो लोॾींदसि मां
दर त दूल्ह लाल जे...

2.
नीलो घोड़ो मुंहिंजे लाल जो-झूलेलाल जो
अमर लाल जो, उॾेरे लाल जो, जोतियुनि वारे जो
वाॻ वठंदसि मां हथड़ा जोड़िंदसि मां
दर त दूल्ह लाल जे...

3.
साबित सीर वहे लाल जी मनठार जी
सुहिणे लाल जी, झूलेलाल जी, अमर लाल जी
अखा पाईंदसि मां गीत ॻाईंदसि मां
दर त दूल्ह लाल जे...

4.
मींहं वसाया लाल महर जा पंहिंजे रहम जा
पंहिंजी ॿाझ जा-पंहिंजी प्यार जा
छेॼ पाईंदसि मां-धोंका हणंदसि मां
दर त दूल्ह लाल जे...