भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छैला छलन चलौ नव काजर / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छैला छलन चलौ नव काजर,
दयैं राधा बृज नागर।
मुकती भोल बिकैं मथरा में,
कजरौटन के आगर।
श्री वृषभान-मनदर में दीपक,
है सनेह कौ सागर।
कोयन भीतर रेखा गागई,
परती दिखा उजागर।
कात ईसुरी तुम लौ रावै
प्रान हमारे हाजर।