भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छोटा अन्ने / चंद्रदत्त 'इंदु'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छोटा अन्ने, मीठे गन्ने
बड़े मजे से खाता,
कोई उससे गन्ना माँगे
उसको जीभ चिढ़ाता!
मम्मी बोली-‘अन्ने बेटा,
मुझको दे दो गन्ने!’
‘ये कड़वे हैं, तुम मत खाओ!’
झट से बोला अन्ने।