भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छोटी छोटी गैयाँ, छोटे छोटे ग्वाल / भजन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छोटी छोटी गैयाँ, छोटे छोटे ग्वाल
छोटो सो मेरो मदन गोपाल

छोटी छोटी गैयाँ, छोटे छोटे ग्वाल
छोटो सो मेरो मदन गोपाल

आगे आगे गैयाँ पीछे पीछे ग्वाल
बीच मैं है मेरो मदन गोपाल...... छोटी छोटी गैयाँ

घास खाए गैयाँ, दूध पीये ग्वाल
माखन मिसरी खाए मेरो मदन गोपाल... छोटी छोटी गैयाँ

काली काली गैयाँ, गोरे गोरे ग्वाल
श्याम वरन मेरो मदन गोपाल.... छोटी छोटी गैयाँ

छोटी छोटी लाखुटी छोटे छोटे हाथ
बंसी बजावे मेरो मदन गोपाल.... छोटी छोटी गैयाँ

छोटी छोटी सखियाँ मधुबन बाल
रास रचावे मेरो मदन गोपाल..... छोटी छोटी गैयाँ