भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

छोटे से मोरे मदन गोपाल (लोरी) / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

छोटी-छोटी गैयाँ
छोटे-छोटे ग्वाल
छोटे से मोरे मदन गोपाल

कहाँ गईं गैयाँ, कहाँ गए ग्वाल
कहाँ गए मोरे मदन गोपाल।

हारे गईं गैयाँ, पहाड़ गए ग्वाल
खेलन गए मोरे मदन गोपाल

का खाएँ गैयाँ? का खाएँ ग्वाल
का खाएँ मोरे मदन गोपाल?

घास खाएँ गैयाँ, दूध पिएँ ग्वाल
माखन खाएँ मोरे मदन गोपाल।

छोटी-छोटी गैयाँ
छोटे-छोटे ग्वाल
छोटे से मोरे मदन गोपाल