भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छोडोॅ-छोडोॅ पियाजी / शिवनन्दन 'सलिल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खुली गेलै गूथल खोपा छिरियैलै गजरा
छोडोॅ-छोडोॅ पियाजी ओझरैलै अंचरा

भांगी गेलै सबटा चूडी टूटी गेलै कंगना
खुललै नाक के रोॅ नथ चोली के रोॅ फुदना
लटघट मांगी केॅ सिनूर आँखी के कजरा
छोडोॅ-छोडोॅ पियाजी ओझरैलै अंचरा

उडलोॅ चेहरा के रग
लचलोॅ देखी अंग-अंग
भोरैं ननदी कुढैतै, मुसकैतै देवरा
छोडोॅ-छोडोॅ पियाजी ओझरैलै अंचरा

थकी हारी चान तारा
दाबेॅ लगलै किनारा
मधु पीबी पीबी पीबी मधुऐलै भंवरा
छोडोॅ-छोडोॅ पियाजी ओझरैलै अंचरा ।