भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छोरो मन्नै बोल्यो / रूपसिंह राजपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छोरो मन्नै बोल्यो मैं,
बणू सलमान खान।
सागै पढती छोरियां स्यूं,
इश्क लड़ाऊंगो।
आधी रात कार भी चलाऊंगो,
शराब पी'र,
सूतै पड़ै लोगां पर,
फेर बो चढाऊंगो।
कालिये मिरग गो शिकार,
करूं भाज-भाज,
इत्तौ काम खातर मैं,
जोधपुर जाऊंगो।
मैं कैयो तन्नै कठै,
जाणगी नी लोड़ बेटा,
'हम आपके हैं कौन?'
तन्नै घर मैं ही बताऊंगो।
अब ताईं रह्यो तेरो बाप बण सुन बेटा,
अमरीशपुरी तन्नै अब बणगै दिखाऊंगो