भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जंगलों की ये मुहिम है रख़्त-ए-जाँ कोई नहीं / हसन 'नईम'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जंगलों की ये मुहिम है रख़्त-ए-जाँ कोई नहीं
संग-रेज़ों की गिरह में कहकशां कोई नहीं

क्या खबर है किस किनारे इस सफ़र की शाम हो
कश्‍ती-ए-उम्र-ए-रवाँ में बादबाँ कोई नहीं

आशिकों ने सिर्फ अपने दुख को समझा मोतबर
मेहर सब की आरज़ू है मेहरबाँ कोई नहीं

एक दरिया पार कर के आ गया हूँ उस के पास
एक सहरा के सिवा अब दरमियाँ कोई नहीं

हसरतों की आबरू तहज़ीब-ए-ग़म से बच गई
इस नफ़ासत से जला है दिल धुआँ कोई नहीं

कट चुके हैं अपने माज़ी से सुख़न के पेशा-वर
मर्सिया-गो सो चुके और क़िस्सा-ख़्वाँ कोई नहीं

पूछता है आज उन को बे-तकल्लुफ़ सा लिबास
इस गली में क्या जियाला नौजवाँ कोई नहीं

वो रहे क़ैद-ए-जमाँ में जो मकीन-ए-आम हो
लम्हा लम्हा जीने वालों का मकाँ कोई नहीं

मजलिसों की ख़ाक छानी तो खुला मुझ पर ‘नईम’
आज़मी सा ख़ुश-निगाह ओ ख़ुश-बयाँ कोई नहीं