भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जंगल के रंग हो रहे . . ./ वत्सला पाण्डे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जंगल में
तितलियां ही नहीं
अजगर भी
हुआ करते हैं

उजाले तो नहीं
मगर गहरे अंधरे
हुआ करते हैं

एक काली सी
परछाईं है कि
लील जाती है
जंगल के जंगल

हवा भी दम साधे
देखती रही है
जैसे हो नज़ारा
एक रंगहीन