भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जंगल / विजया सती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरी सुबह खो गई है

मेरी शाम खो गई है

और अब

दोपहरी धूप का अम्बार है- मैं हूँ जिसकी कोई पहचान नहीं!


मेरी सादगी खो गई है

मेरी सरलता खो गई है

और अब ढेर-ढेर संशय के तूफ़ान हैं- मैं हूँ जिसकी कोई राह नहीं!


मेरे शब्द खो गए हैं

उनके अर्थ खो गए हैं

और अब गूँजते हुए प्रश्न हैं- मैं हूँ कहीं कोई उत्तर नहीं!


सनसनाता एक जंगल है

जिसमें मैं बिल्कुल खो गई हूँ!