भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जगत झूठा नज़र आया / बिन्दु जी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जगत झूठा नज़र आया॥
मतलब की है सगाई,
बातों की है सफाई।
बृथा ही भरमाया॥ जगत...

कोई कहता है कि सोने के महल बनवाएँगे,
कोई कहता है कि शहंशाह हम बन जाएँगे,
पर ये न समझे कि इस जीवन की क्या औकात है।
चार दिनों की चाँदनी और फिर अँधेरी रात है।
मन के हैं बदले,
इनमें क्यों व्यर्थ भूले।
धोखे की है ये माया॥ जगत...

बाँधकर मुट्ठी किया था गर्भ में इकरार क्या,
श्याम सुमिरन तुझको अब नहीं दरकार क्या।
उस बड़े दरबार में मुँह कौन सा दिखलायेगा,
बंद हाथों आया था और खाली हाथों जाएगा।
अब दृग के ‘बिन्दु’ कहो मत,
हरि को ही दे दे काया॥ जगत...