भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जगदो द्यू / सुदामा प्रसाद 'प्रेमी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीवन की ईं उकळि-उंधरि पर
मिन ध्वळिने द्वी आंसू खारी
जोड़ि-सौंज्वड़ि मा हंसदा-ख्यलदा
मिन सदने यो मन कटम्वारी।

जौं भावों तैं लेकी छौ मिन
यो अपणो संसार रचायो
ओ सब पलभर मुं उड़ि गैने
मी ऊंतैं समेटि नि पायो।
अब त जीवन भार-सी ह्वाया
खिल्यूं फूल भी मुुरझाया
भाव नि छीं मन मूं कुछ
फिर भी जगदो द्यू-सी पाया।
यदि जगदो द्यू तुम चैल्या
बुझणा से पैले ही ऐयां
अगर बुझ्यूं ही तुम पैल्या
त राख उठै ल्ही जैंयां।