भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जग असार में सार रसना / भजन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अष्टक   ♦   आरतियाँ   ♦   चालीसा   ♦   भजन   ♦   प्रार्थनाएँ   ♦   श्लोक

जग असारमें सार रसना! हरि-हरि बोल।
यह तन है एक जर्जरि नैया केवल है हरिनाम खिवैया।
हरिसे नाता जोड़, रसना! हरि-हरि बोल॥१॥
यह तन तुझको करज मिला है,चुकता तूने कुछ न किया है।
जगसे नाता तोड़, रसना! हरि-हरि बोल॥२॥
ना पूरा तो थोड़ा कर ले, राम नाम हिरदयमें धर ले।
हरि सुमिरन कर शोर रसना! हरि-हरि बोल॥३॥
लख-चौरासी भरम गमायो, बड़े भाग मानुष तन पायो।
जाग! हो गया भोर, रसना! हरि-हरि बोल॥४॥