भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जग के व्यापार से समभाव हुए हैं / शैलेन्द्र चौहान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भाव बहुत बेभाव हुए हैं

दिन तो दिन रातों के भी अभाव हुए हैं


कितने अँधियारे कष्टों में काटे

उजियारे कितने अलगाव हुए हैं


अपने-अपने किस्से हर कोई जीता है

औरों के किस्से किससे समभाव हुए हैं


दूर निकल आए जब तक भ्रम टूटे

वक़्त बहुत बीता बेहद ठहराव जिए हैं


नहीं कहूंगा दुख मैं इसको

सुख ने भी कितने घाव दिए हैं


भाव बहुत बेभाव हुए हैं