भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जग में बिना यार कौ को है? / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जग में बिना यार कौ को है?
मिलै सो भाग बदौ है।
एक यार आमद के पाछै,
धनके संग लगौ है।
एक यार दये प्रान प्रेम मैं
प्रीत की कौन फंसौ हैं।
एक यार बिच धार वहा कैं
बीचइ छाड़ भगो है।
जे सब यार देखकें ईसुर
मो मन भौत हँसौ है।