भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जज़्ब होना है तो मिट्टी पे ठहरिए साहब / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जज़्ब होना है तो मिट्टी पे ठहरिए साहब ।
और बेकार ही बहना है तो बहिए साहब ।

बात कुछ और है कुछ और न कहिए साहब,
आप आईना हैं, आईना ही रहिए साहब ।

लोग कहते हैं कि चादर में सिमट कर रहिए,
हम ये कहते हैं कि चादर को बदलिए साहब ।

हमने सोचा था कि वो पलकें बिछाए होगा,
उड़ गए होश कहा उसने जो ’कहिए साहब ?’

आप ख़ुद अपनी भी औक़ात समझ जाएँगे,
अपनी औक़ात से बाहर तो निकलिए साहब ।

ग़ैर के दर्द में आसान है ये कह देना,
ठीक हो जाएगा सब हौसला रखिए साहब ।