भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जथारथ / राजू सारसर ‘राज’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कूड़ है
सफा कूड़।
दिवलै री लो माथै
फिडकलै रो बळणौ।
आतमा री
डूंगी प्रीत माथै
निछारावळ होवणौ।
लोग मानै
बे ई मिनखां मान ई
करै, पण बीजां रै
रातां सुखां सूं ईसकौ,
होम देवै आपरी जूण
बीं री हस्ती मिटावण सारू
कै, बै है चोरमनां
बांनैं नीं सुहावै चानणौं
बै बळ मरै
आ सौच ’र
घर तो घोसियां रो ई बळै
सुख पण उंदरा ई पाल्यै
आ बात, पण
लोगां रैं जचै कोनीं
ओ जथारथ सौरे सांस पचै नीं।