भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जनता को तू समझ रहा नादान, तू कितना नादान / डी. एम. मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जनता को तू समझ रहा नादान,तू कितना नादान
लोकशक्ति का नहीं तुझे अनुमान तू कितना नादान

कागज़ के कुछ नोटों के अतिरिक्त क्या है तेरे पास
फिर भी समझ रहा ख़ुद को धनवान तू कितना नादान

तोड़ दिया लोगों का तूने ख़्वाब भोग रहा अभिशाप
बेच दिया तूने अपना ईमान तू कितना नादान

गाल बजाकर चला है बनने वीर अन्दर से भयभीत
बाघ दिखें है तुझको पाकिस्तान तू कितना नादान

कितने झूठ अभी बोलेगा यार डूब न जाये यान
छल करके तू बन बैठा कप्तान तू कितना नादान

जनता समझ रही है सारा खेल रख इसका भी ध्यान
पाँच साल की होती ये दूकान तू कितना नादान