भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जनवरी का गीत / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धीरे-धीरे ख़त्म हुए जब पेज डायरी के ।
नई धूप ने आकर हाथ मिलाया खिड़की से ।।

जाते-जाते नल के नीचे
जैसे भरे गिलास
बढ़ने लगे दिवस वैसे
आ गया जनवरी मास

हवा कटखनी हुई नदी का पानी पी-पी के ।
नई धूप ने आकर हाथ मिलाया खिड़की से ।।

ग्रीटिंग कार्ड, गार्ड-सा आया
छूटे सारे खेल
लूडो, कैरम हमने
अलमारी में दिए धकेल

लगी दौड़ने रेल पढ़ाई की फिर तेज़ी से ।
नई धूप ने आकर हाथ मिलाया खिड़की से ।।

छोटी होने लगी, साँवली
सुरसा जैसी रात
मैली होने लगीं क़िताबें
घटने लगी दवात

सुबह घोटने लगी रोज़ मीनिंग अँग्रेज़ी के ।
नई धूप ने आकर हाथ मिलाया खिड़की से ।।