भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जन्मगाथा गीत की / श्याम नारायण मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बाँस का जंगल जला,
फिर बाँसुरी ने
गीत गाए ।

तुम कहाँ हो
गीत की यह जन्मगाथा
मन सुनाए ।
 
      तीर्थ से लौटी नहीं है
      श्वास पश्चाताप की,
      दूर तक फैली हुई
      पगडंडियां है पाप की,

पोर गिन-गिन
उँगलियाँ
डाकिन चबाए ।

      अस्थियाँ इतिहास की
      कलश देहरी पर धरा है ।
      और आँगन में अधूरे
      क़त्ल का शोणित भरा है ।

कौन आँखों के दिए में
आग भर के
प्रेत को फिर से जगाए ।