भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जन्म के गीत-2 / छत्तीसगढ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

ननदी बोलयेंव उहू नइ आइस
ननदी हो हमार का करि लेहव।
बहिनी बलाके कांके मढ़ई बोन
हम छबीली सबे के काम पड़बोन।।
ननदोइ बोलयेंव उहू नइ आइस
भोटो बला के नरियर फोरा ले बोन
हम छबीली सबे के काम पड़बोन।।
जेठानी बोलायेंव उहू नइ आइस
जेठानी हो हमार का करि लेहव।
भौजी बला के, सोंहर गवाबोन
हम छबीली सबे के काम पड़बोन।।
जेठ जो बोलायेंव उहू नइ आइस
जेठ हो हमार का करिलेहव।
भाई बला के बन्दुक छुटबई लेबोन
हम छबीली सबे के काम पड़बोन।।
ससुर बोलायेंव उहू नइ आइस
ससुर हो हमार का करिलेहव।
बापे बला के नाम धरइ ले बोन
हम छबीली सबे के काम पड़बोन।।
सासे बोलायेंव उहू नइ आइस
सासे हो हमार का करिलेहव।
दाई बला के टुठू बधवइबोन
हम छबीली सबे के काम पड़िबोन।।