भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब अधूरे चाँद की परछाईं पानी पर पड़ी / ज़फ़र सहबाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब अधूरे चाँद की परछाईं पानी पर पड़ी
रौशनी इक ना-मुकम्मल सी कहानी पर पड़ी

धूप न कच्चे-फलों में दर्द का रस भर दिया
इश्क़ की उफ़्ताद ना-पुख़्ता जवानी पर पड़ी

गर्द ख़ामोशी की सब मेरे दहन से धुल गई
इस क़दर बारिश सुख़न की बे-ज़बानी पर पड़ी

उस ने अपने क़स्र से कब झाँक कर देखा हमें
कब नज़र उस की हमारे बे-मकानी पर पड़ी

अस्ल सोने पर था जितना भी मुलम्मा जल गया
धूप इस शिद्दत की अल्फ़ाज़ ओ मआनी पर पड़ी

तर्क कीजिए अब दिलों में नर्म गोशों की तलाश
बे-हिसी की ख़ाक हर्फ़-ए-मेहरबानी पर पड़ी

ज़ख़्म-ए-दिल उस की तवाज़ु में नमक-दाँ बन गया
ये मुसीबत भी हमारी मेज़बानी पर पड़ी

अपने हाथों टूटने का तजरबा तो हो गया
चोट बे-शक सख़्त थी जो ख़ुश-गुमानी पर पड़ी