भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब उन्ही को न सुना पाए ग़म-ए-जाँ अपना / ज़िया जालंधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब उन्ही को न सुना पाए ग़म-ए-जाँ अपना
चुप लगी ऐसी कि ख़ुद हो गए ज़िंदाँ अपना

ना-रसाई का बयाबाँ है कि इरफ़ाँ अपना
इस जगह अहरमन अपना है न यज़्दाँ अपना

दम की मोहलत में है तस्ख़ीर-ए-मह-ओ-मेहर की धुन
साँस इक सिलसिला-ए-ख़्वाब-ए-दरख़्शाँ अपना

तलब उस की है जो सरहद-ए-इम्काँ में नहीं
मेरी हर राह में हाइल है बयाबाँ अपना

कैसी दूरी उसी शोले की है ज़ौ मेरा जमाल
जिस से ताबिदा रहा दीदा-ए-गिर्यां अपना

अर्मुंगाँ हैं तिरी चाहत के शगुफ़्ता लम्हे
बे-ख़ुदी अपनी शब अपनी मह-ए-ताबाँ अपना

इस तरह अक्स पड़ा तेरे शफ़क़ होंटों का
सुब्ह-ए-गुलज़ार हुआ सीना-ए-वीराँ अपना

ऐसी घड़ियाँ कई मुझ ऐसों पे आई होंगी
वक़्त ने जिन से सजा रक्खा है ऐवाँ अपना