भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब कभी तेरा नाम लेते हैं / सरदार अंजुम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब कभी तेरा नाम लेते हैं
दिल से हम इन्तक़ाम लेते हैं

मेरी बर्बादियों के अफ़साने
मेरे यारों का नाम लेते हैं

बस यही एक जुर्म् है अपना
हम मुहब्बत से काम लेते हैं

हर क़दम पर गिरे पर सीखा
कैसे गिरतों को थाम लेते हैं

हम भटक कर जुनूँ की राहों में
अक़्ल से इन्तक़ाम लेते हैं