भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब केनहू से हाथ में छल्ला निसानी आ गेल / भावना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब केनहू से हाथ में छल्ला निसानी आ गेल,
सोच के उहे बात आँख में पानी आ गेल।

आएना में गौर से न देखली चेहरा कहिओ,
गेल कहिआ लरिकपन कहिआ जवानी आ गेल।

भोर से साँझ तक चुन में गाँओ पूरा डूबल रहल,
कनकनाइत ठार रहे की इआद नानी आ गेल।

कनिया-पुतरिया खेल में न दिन के सुध न रात के,
इआद हमरा फेनू उहे कहानी आ गेल।

तिलक-दहेज़ के सोच क∙ मर रहल बेटी के बाप,
आँख के आगे जबसे बेटी सयानी आ गेल।