भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब तुम अपनौ मौ खोलत हौ / महेश कटारे सुगम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब तुम अपनौ मौ खोलत हौ
आपस में नफरत घोरत हौ

जहर उगलवे दूध प्या रये
सांपन खौं पालत पोसत हौ

पैलें आग लगात घरन में
फिर पानी लैवे दौरत[1] हौ

झूठी मूठी बस बातन सें
बादर के तारे टोरत हौ

अपनी शकल सुधारत नईंयाँ
तुम तौ ऐना[2] खौं कोसत हौ

बादर देख पियत पानी के
सुगम पोतलन[3] खौं फोरत हौ

{{KKMeaning}
  1. दौड़ना
  2. आईना
  3. ठण्डे पानी का मिटटी का बना बर्तन