भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब तें आयो सरन राम के / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब तें आयो सरन राम के।
भगो विवाद कल्पना जीव की पचि-पचि रट बस एक नाम के।
उर आनंद कंद सब छूटो तिमिर नास भयो उदै भान के।
दुविदा दूर भयी सब तन की मन बैठी आनंद धाम के।
जूड़ीराम काम भयो पूरन आठ पहर धुन ध्यान धाम के।