भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब धूप खिले / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

     ठंडे पैरों से चलकर
     मैं आई तुम तक
     सोचा था तुम जलते होगे
     पर
     तुम मुझको पाकर
     जैसे बर्फ हो गये
     मैं भी जमने लगी तुम्हारे साथ
     और अब
     केवल आँखे शेष बची हैं।
     ढूँढ रही हूँ आसमान में
     कोई सूरज वाला दिन
     जब धूप खिले
     हम दोनों पिघलें
     और नदी जीवन की
     बहने लगे टूटते हिमखंडों से।